Just another WordPress.com site

Latest

Stories for school (Hindi,Gujarati and English)

This post is for the students who wants to read stories for there studies… Let’s have some wonderful stories to help you,us and all…

Let’s start with the first one…

1. …हिंदोस्तान…

मैंने बड़ी हैरत से उसे देखा। उसका सारा बदन
लहूलुहान था व बदन से मानों आग की लपटें निकल
रही थीं। मैंने उत्सुकतावश पूछा, “तुम्हें क्या हुआ
है?”
“मुझे कई रोग लगे हैं; मज़हबवाद, भाषावाद,
निर्धनता, अलगाववाद, भ्रष्टाचार,
अनैतिकता इत्यादि जिन्होंने मुझे बुरी तरह जकड़
लिया है। यह जो आग मेरे बदन से निकल रही है यह
मज़हबवाद और अलगाववाद की आग है। यदि जल्द
ही मेरा इलाज न हुआ तो यह आग सबको भस्म कर
देगी।” उसके दिल की वेदना चेहरे पर आ चुकी थी।
उसकी रहस्यमय बातों से मैं आश्चर्यचकित था।
“क्या अजीबोग़रीब बातें करते हो! तुम
हो कौन…?” मैंने पूछा।
“मैं हिंदोस्तान हूँ!”

2. …भारतमाता…

मुझे भारत में आए हुए कई महीने हो गए थे और अब
तो वापिस न्यूजीलैड लौटने का समय
हो गया था।

अरे भई, तुम्हारी सब ख़रीदारी कर लाई हूँ,
लो पकड़ो ये किताबें।’ बड़ी दीदी ने सामान
मुझे थमाते हुए कहा, ‘अरे हाँ, बस वो भारत
माता वाली तस्वीर जो तुमने कही थी,
कहीं नहीं मिली। तुम अगर बाज़ार जाओ
तो खुद ही देख लेना।’
‘अच्छा ठीक है, मैं देख लूंगा।’

फिर मैं भारत माता की तस्वीर लेने के लिए एक
दुकान से दूसरी दुकान और दूसरी से
तीसरी घूमता रहा मगर तस्वीर नहीं मिली।
एक-दो दुकानदारों ने तो मेरी माँग सुनकर मुझे
बड़े आश्चर्य से देखा। मुझे अपने देश का यह
बेगानापन बड़ा अखरा! मैं अपने देश भारत में
ही तो भारत माता की तस्वीर खोज
रहा था, इसमें हैरानी की क्या बात?
हैरानी तो मुझे होनी चाहिए, उन दुकानों पर
जिनके पास
सभी फ़िल्मी सितारों की तस्वीरों तो मिलती हैं
पर भारत माता की तस्वीर नहीं है।
खैर, मैं भी आसानी से हार मानने
वाला कहाँ था!
अपने एक चित्रकार मित्र
को समस्या बताई और उन्होंने तस्वीर बना कर
मेरी समस्या का समाधान कर दिया। मैं
प्रसन्नचित्त घर लौट आया।
घर में कई परिचित सपरिवार मुझे मिलने आए हुए थे।
मुझे देखते ही दीदी ने पूछा, ‘अरे तस्वीर मिल गई
क्या?’
मैंने ‘हामी’ में सिर हिला दिया।
‘दिखा तो!’
और सभी मेहमान भी तस्वीर देखने लगे।
एक साथ, ‘बहुत सुंदर! बहुत सुंदर!!’ की कई आवाज़ें
आई और इतना सुनते ही घर में आए मेहमानों के
बाहर खेलते बच्चे भी तस्वीर देखने को उमड़ पड़े और
तस्वीर देखकर एक-दूसरे से पूछने लगे, ‘यह
किसकी तस्वीर है?’ फिर दोबारा खेलने लगे।
इधर केबल टीवी पर कोई फ़िल्मी कार्यक्रम चलने
लगा, बच्चे खेल छोड़ टीवी देखने आ पहुंचे।

‘शाहरूख खान, अमीर खान, ऐश्वर्य राय,
गोबिंदा, काजोल, करिश्मा कपूर,
जूही चावला, रवीना टण्डन, माधुरी’
बच्चों को सबके नाम मालूम थे।

मैं भारत के भावी कर्णधारों की दिशा और
भारत की दशा के बारे में सोचने लगा। यह
दिशा हमारी क्या दशा करेगी?

-रोहित कुमार ‘हैप्पी’

Advertisements

What is Philosophy ???

As  a part of our curriculum, philosophy is one of the most debatable tasks of the world. Let’s try to understand philosophy in a lighter way. I have a power point presentation on philosophy. lets have a glance.

Click Here for Philosophy.ppsx

There is a discussion on several topics…

like :

Idealism

Realism

Behaviorism

Humanism

Eclecticism

I am sure after reading it you will have something to share with me on this article as a comment… You are welcome every time…

5Q+5Q= ?????

 

 

Thank you

-File has been taken from http://www.pppst.com

BLOGS IN CLASSROOM

From the last two decades,technology has remained to be the
essential part of the education system. OHP, Computer, projector,
printer, scanner are the most useful tools of the technology in the
education.Nowadays Internet becomes a powerful source of
learning.Through internet we can get any concept clear.Most of the
things on internet like Yahoo, Google, Facebook,  Orkut,  Ask.com,
Youtube,  Wikipedia,  Sparknotes.com, etc. can be useful for educational
purposes.
On internet Blogs are the new idea of debating and discussing.
Blogs are the key to share our views and articles with our friends and
relatives. It can be used in classroom environment for effective
education. It is a useful tool to link two study groups or two
different classes.
Blogs in classroom :
In classroom using technology is now become a normal thing. There are
many educational benefits of blogs in classroom teaching.

1. It makes the class active.
2. Every student get opportunity to share his/her views.
3. Long term discussion takes place.
4. Everyone works individually.
5. Any question can be answered.
6. It helps in developing reading and writing skills.
7. We can check our discussions as many times as we want.

Now we know that blogs are useful in classroom learning more than any other field. We found the use of blogs in several places. But the questions are :
1. Can blogs be useful in Indian Education System ?
2. In rural area, how can learnin be possible through blogs ?

Waiting for your comment…

FUN WITH ENGLISH

We’ll begin with a box, and the plural is boxes;

But the plural of ox should be oxen, not oxes.

You may found a mouse a whole lot of mice;

But the plural of a house is houses, not hice.

If the plural of man is always called men;

Why shouldn’t the plural of pan be called pen?

That one may be that, and three may be those;

Yet the plural of hat would never be hose.

We speak of a brother, and also of brethren;

Though we say mother, we never say methern.

The masculine pronouns are he, his and him,

But imagine the faminine she, shis and shim!

So our English, I think, you will all agree,

Is the trickiest language you ever did see.

Can You find out Some more words like these?

must comment